Vinay Patrika By Sri Goswami Tulasidas VirachitaVinay Patrika By Sri Goswami Tulasidas Virachita

Vinay Patrika By Sri Goswami Tulsidas Virachita

Gita Press
0.759$

विनय पत्रिका तुलसीदास के 279 स्तोत्र गीतों का संग्रह है। प्रारम्भ के 63 स्तोत्र और गीतों में गणेश, शिव, पार्वती, गंगा, यमुना, काशी, चित्रकूट, हनुमान, सीता और विष्णु के एक विग्रह विन्दु माधव के गुणगान के साथ राम की स्तुतियाँ हैं। इस अंश में जितने भी देवी-देवताओं के सम्बन्ध के स्तोत्र और पद आते हैं, सभी में उनका गुणगान करके उनसे राम की भक्ति की याचना की गयी है। इससे स्पष्ट ज्ञात होता है कि तुलसीदास भले ही इन देवी-देवताओं में विश्वास रखते रहे हों, किंतु इनकी उपयोगिता केवल तभी तक मानते थे, जब तक इनसे राम भक्ति की प्राप्ति में सहयोग मिल सके।
‘विनयपत्रिका’ के ही एक प्रसिद्ध पद में उन्होंने कहा है –
“तुलसी सो सब भाँति परम हित पूज्य प्रान ते प्यारो।
जासों होय सनेह राम पद एतो मतो हमारो॥”

Type: Hardbound
SKU: GP1701
Publication Year: 2015 16th Edition
Author: Goswami Tulsidas

Out of stock

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Vinay Patrika By Sri Goswami Tulsidas Virachita”